CTET Math Pedagogy Questions

CTET Math Pedagogy Questions Download in PDF Math Notes HTET PDF


CTET Math Pedagogy Questions Download in PDF Math Notes HTET PDF. Get CTET Math Pedagogy Questions Download in PDF Math Notes HTET PDF. We are providing CTET Math Pedagogy Questions Download in PDF Math Notes HTET PDF. Get CTET Math Pedagogy Questions Download in PDF Math Notes HTET PDF.

  1. छोटी कक्षाओं के लिए गणित शिक्षण की उपयुक्त विधि – खेल मनोरंजन विधि
  2. रेखा गणित शिक्षण की सर्वश्रेष्ठ विधि – विश्लेषण विधि
  3. बेलनाकार आकृति के शिक्षण की सर्वश्रेष्ठ विधि – आगमन निगमन विधि
  4. नवीन प्रश्न को हल करने की सर्वश्रेष्ठ विधि – आगमन विधि
  5. स्वयं खोज कर अपने आप सीखने की विधि – अनुसंधान विधि
  6. मानसिक, शारीरिक और सामाजिक विकास के लिए सर्वश्रेष्ठ विधि – खेल विधि
  7. ज्यामिति की समस्यायों को हल करने के लिए सर्वोत्तम विधि – विश्लेषण विधि
  8. सर्वाधिक खर्चीली विधि – प्रोजेक्ट विधि
  9. बीजगणित शिक्षण की सर्वाधिक उपयुक्त विधि – समीकरण विधि
  10. सूत्र रचना के लिए सर्वोत्तम विधि – आगमन विधि
  11. प्राथमिक स्तर पर थी गणित शिक्षण की सर्वोत्तम विधि – खेल विधि
  12. वैज्ञानिक आविष्कार को सर्वाधिक बढ़ावा देने वाली विधि – विश्लेषण विधि

गणित शिक्षण की विधियाँ : स्मरणीय तथ्य

  1. शिक्षण एक त्रि – ध्रुवी प्रक्रिया है जिसका प्रथम ध्रुव शिक्षण उद्देश्य, द्वितीय अधिगम तथा तृतीय मूल्यांकन है ।
  2. व्याख्यान विधि में शिक्षण का केन्द्र बिन्दु अध्यापक होता है, वही सक्रिय रहता है ।
  3. बड़ी कक्षाओं में जब किसी के जीवन परिचय या ऐतिहासिक पृष्ठभूमि से परिचित कराना है, वहाँ व्याख्यान विधि उत्तम है ।
  4. प्राथमिक स्तर पर थी गणित स्मृति केन्द्रित होना चाहिए जिसका आधार पुनरावृति होता हैं ।

गणित शिक्षण के प्राप्य उद्देश्य व अपेक्षित व्यवहारगत परिवर्तन —-

  1. ज्ञान – छात्र गणित के तथ्यों, शब्दों, सूत्रों, सिद्धांतों, संकल्पनाओं, संकेत, आकृतियों तथा विधियों का ज्ञान प्राप्त करते हैं ।

व्यवहारगत परिवर्तन –

  1. छात्र तथ्यों, परिभाषाएँ, सिद्धांतों आदि में त्रुटियों का पता लगाकर उनका सुधार करता हैं ।
  2. तथ्यों तथा सिद्धांतों के आधार पर साधारण निष्कर्ष निकालता हैं ।
  3. गणित की भाषा, संकेत, संख्याओं, आकृतियों आदि को भली भांति पहचानता एवं जानता हैं ।
  4. अवबोध — संकेत, संख्याओं, नियमों, परिभाषाओं आदि में अंतर तथा तुलना करना, तथ्यों तथा आकृतियों का वर्गीकरण करना सीखते हैं ।
  5. कुशलता — विधार्थी गणना करने, ज्यामिति की आकृतियों, रेखाचित्र खींचने मे, चार्ट आदि को पढ़ने में निपुणता प्राप्त कर सकेंगे । छात्र गणितीय गणनाओं को सरलता व शीघ्रता से कर सकेंगे ।

 

Post Author: Money Deep

Deep Money
India Study Institute is a educational website. Which serves education posts for students who is preparing for competitive exams. Download all kind of Exam Papers, Syllabus, Notes and other stuff from here.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *